भारत के शीर्ष 10 पारंपरिक परिधान (Top 10 Traditional Dresses of India)

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading...
अगर आपको इस सूची में कोई भी कमी दिखती है अथवा आप अपने मनपसंद व्यक्ति, वस्तु या अन्य किसी चीज को इस सूची में जोड़ना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स में जरूर लिखें |

साड़ी (Saree)

Score : 0

Image Source

साड़ी निस्संदेह भारत का नंबर वन पहनावा है कुछ इलाकों में इसे सारी भी कहा जाता है। साड़ी एक सबसे सुंदर भारतीय पारंपरिक पोशाक है। यह लगभग 5 से 6 गज लम्बी बिना सिली हुए कपड़े का टुकड़ा होता है जो ब्लाउज या चोली और साया के ऊपर लपेटकर पहना जाता है। भारत के विभिन्न स्थानों पर पहने जाने वाली लोकप्रिय साड़ी की विभिन्न किस्में और शैलियां हैं। सबसे लोकप्रिय साड़ियों में कांजीवरम साड़ी, बनारसी साड़ी, पटोला साड़ी और हकोबा मुख्य हैं। साड़ी भारत के पारंपरिक पहनावे का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्‍सा है जिसे यहां की हर लड़की और महिला बहुत पसंद करती है। साड़ी एक ऐसा परिधान है जो हर कद-काठी की महिला पर खूब जंचता है। घर में कोई पूजा हो या फिर शादी-ब्‍याह हो साड़ी पहनने का इससे अच्‍छा मौका और कोई हो ही नहीं सकता है।

सलवार और कमीज (Salwar and kameez)

Score : 0

Image Source

सलवार कमीज भारत में सबसे प्रसिद्ध और सामान्यतः देखा जाने वाला पारंपरिक वस्त्रों में से एक है। सलवार कमीज कई रूपों में आता है और किसी भी अवसर के लिए पहना जा सकता है। ये दक्षिण एशिया और मध्य एशिया के पुरुषों और महिलाओं का पारंपरिक परिधान है। यह मुख्य रूप से हिमाचल प्रदेश, पंजाब और हरियाणा के लोगों की पारंपरिक पोशाक थी लेकिन अब इसको देश के बाकी हिस्सों में भी देखा जाता है और ये यहाँ खूब ट्रेंड में है। यह हर अवसर के लिए अनुकूल सबसे सुविधाजनक और बहुत स्टाइलिश भारतीय वस्त्र है।

घाघरा चोली (Ghagra Choli)

Score : 0

Image Source

घागरा चोली या लहंगा चोली एक आम पारंपरिक कपड़े हैं जो राजस्थान और गुजरात में महिलाओं द्वारा आमतौर पर पहने जाते हैं। इस पोशाक के विभिन्न रूप हैं, एक कढ़ाई वाला संस्करण है जो शादी समारोहों के दौरान पहना जाता है और दूसरा दर्पण सुशोभित घागरा नवरात्रि के उत्सव के समय पहना जाता है। ओडनी के साथ मिलकर यह पोशाक अधिक सुंदर हो जाती हैं। इसीलिए आजकल ये देश के अन्य भागों में भी लोकप्रिय हो गए हैं।

 

शेरवानी (Sherwani)

Score : 0

Image Source

शेरवानी पुरुषों द्वारा औपचारिक अवसरों पर पहना जाने वाला एक पारंपरिक पोशाक है। यह एक घुटने की लम्बाई वाले जैकेट या कोट की तरह एक पोशाक है जो ज्यादातर उत्तरी भारत के पुरुषों द्वारा पहना जाता है। लेकिन अब कई अन्य लोग इसके अनुसरण कर रहे हैं। इसके एक अन्य रूप में इसकी लम्बाई घुटने तक होती है जिसको जैकेट अचकन कहते हैं। यह विवाह समारोहों में पहना जाने वाला एक लोकप्रिय पोशाक है।

शरारा (Sharara)

Score : 0

Image Source

शरारा एक ढीला कढ़ाई युक्त ट्राउजर है जो आजकल महिलाओं द्वारा सामान्यतः पहना जाता है। यह आम तौर पर दुपट्टा या लंबी कमीज के साथ मिलकर पहना जाता है। यह पोशाक नवाबों के युग के दौरान लखनऊ में उत्पन्न हुई थी। कई महिलाएं शादी के रिसेप्शन या यहां तक कि पार्टियों के दौरान शरारा पहने हुए दिख रही हैं। पोशाक परंपरागत अभी तक आधुनिक है।

धोती (Dhoti)

Score : 0

Image Source

यह पूरे भारत में मुख्य रूप से गांव के इलाकों में एक पारंपरिक पोशाक है। किसानों को धोती को प्रसिद्ध पोशाक बनाने के लिए जाना जाता है। धोती को पश्चिमी भारत और उत्तरी भारत के विभिन्न भागों में देखा जा सकता है और आमतौर पर पुरुषों द्वारा पहना जाता है। यह कुछ समुदायों में कुर्ता के साथ विवाह समारोहों में भी पहना जाता है। हाल ही में, धोती शादी समारोहों और यहां तक कि पार्टियों के दौरान एक फैशन स्टेटमेंट बन गई है।

लुंगी (Lungi)

Score : 0

Image Source

दक्षिण भारत में भारत का यह पारंपरिक पोशाक सबसे अधिक पहना जाता है। वे रेशम या कपास के बने होते हैं और गर्मी की गर्मी से अच्छा राहत होती है। लुंगी लगभग किसी भी अवसर के लिए दक्षिण भारत में पुरुषों द्वारा पहने जाते हैं। प्रसिद्ध भांगड़ा नृत्य में भी लुंगी में नर्तकियों का सौँदर्य देखते ही बनता है। आजकल तो दूसरे देशों में भी जैसे बांग्लादेश, ब्रुनेई, इंडोनेशिया, मलेशिया, म्यांमार और सोमालिया के लोग भी गर्मी और आर्द्रता के कारण लुंगी में अपना विस्वास दिखा रहे हैं।

कुर्ता-पजामा (Kurta–Pyjama)

Score : 0

Image Source

कुर्ता पायजामा एक पारंपरिक भारतीय पोशाक है जो भारत के पुरुषों में बहुत लोकप्रिय और पसंदीदा पोशाक है। कुर्ता पायजामा का एक अन्य रूप श्रीनगर जैसी जगहों पर अधिक प्रसिद्द पहना जाने वाला मार्गनी सूट है। यह संयोजन त्योहारों, समारोहों या परिवार के साथ शाम को भी एक पसंदीदा स्थान है। कुर्ते सूती, ऊनी और रेशमी सभी तरह के सामग्रियों में मिलते हैं। भारत और पड़ोसी देशों बांग्लादेश और पाकिस्तान में भी कुर्ते की परंपरा रही है। कुर्ते के कई परिवर्धित रूप हैं जिनमें शेरवानी, पठानी सूट इत्यादि प्रमुख हैं। औरतें भी कुर्तों का इस्तेमाल करती हैं किन्तु इन्हें आमतौर पर कुर्ती और अन्य नामों से पुकारा जाता है।

फेरान (Pheran)

Score : 0

Image Source

फेरान कश्मीर में पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए पारंपरिक पोशाक है। एक पूर्ण लंबाई गाउन, जो पुरुषों और महिलाओं में लोकप्रिय है, भारत के उत्तरी सिरे पर बहुत कुछ देखा जाता है। यह गाउन विशेष रूप से कश्मीर के आसपास के हिमाच्छन्न पहाड़ों के ठंड के मौसम की रक्षा के लिए उपयोगी है। कश्मीर की यह पारंपरिक पोशाक एक पूर्ण लंबाई का गाउन है जो ज्यादातर सर्दियों के दौरान पहना जाता है और पुरुषों और महिलाओं दोनों के बीच ड्रेसिंग का लोकप्रिय रूप है।

पुंछी (Puanchei)

Score : 0

Image Source

पुंछी मिजोरम की इस पारंपरिक पोशाक को उत्सव के अवसरों या विवाह समारोहों के दौरान महिलाओं द्वारा पहना जाता है। प्रसिद्ध बांस नृत्य का प्रदर्शन करते समय यह लड़कियों और महिलाओं द्वारा पहना जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here